नई पोस्ट करें

"3 भारतीय खिलाड़ी जो बन सकते हैं क्रिकेट कमेंटेटर"

2022-10-01 10:00:12 458

भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरMe Too: मौसा ने 13 साल की उम्र में किया था गलत काम, RBI अधिकारी ने अब दर्ज कराया केस, ये है पूरा मामला******Highlights दिल्ली की आरबीआई मुख्यालय में तैनात एक महिला अधिकारी ने अपने मौसा के खिलाफ मी टू के तहत छेड़छाड़ का मामला दर्ज कराया है। महिला ने यह मामला दिल्ली के पंजाबी बाग में दर्ज कराया था। हालांकि, इस मामले में को अब लखनऊ के गाजीपुर थाने में ट्रांसफर कर दिया गया है। कहा जा रहा है कि महिला लखनऊ की ही रहने वाली है और उसका मौसा भी वहीं का है। पुलिस ने इस मामले में आरोपी और पीड़िता दोनों का बयान दर्ज कर लिया है और आगे की कार्रवाई कर रही है।महिला का कहना है कि जब वह छोटी थी और छुट्टियों में नानी के घर जाती थी तो उस वक्त आरोपी मौसा उसके साथ अश्लील हरकतें करता था। महिला अधिकारी का कहना है कि उस उम्र में उसने जब इसकी शिकायत अपनी मौसी से की तो उन्होंने उसे डांट कर भगा दिया। जबकि महिला के परिवार वालों ने भी उसकी नहीं सुनी। जब वह थोड़ी बड़ी हुई और पुलिस के पास जाने की बात की तब भी परिवार वालों ने उसे रोक दिया।अधिकारी महिला का कहना है कि वह इस बात को भूल चुकी थी और शांति से अपना जीवन जी रही थी। लेकिन अब आरोपी मौसा उसे कुछ दिनों से अश्लील मैसेज भेज कर परेशान कर रहा है। इन मैसेजों से वह इतना परेशान हो गई की उसे पुलिस में केस दर्ज कराना पड़ा। महिला ने पंजाबी बाग में 9 अप्रैल को केस दर्ज कराया था। लेकिन अब इस केस को लखनऊ ट्रांसफर कर दिया गया है।सोशलमीडिया पर मीटू का पहली बार इस्तेमाल अमेरिका की सामाजिक कार्यकर्ता तराना बर्क ने 2016 में माईस्पेस नामक सोशलमीडिया प्लेटफॉर्म पर किया था। उन्होंने इस मीटू हैशटैग का उपयोग रंगभेद का शिकार हुई महिलाओं के यौन उत्पीड़न की कहानी बताने के लिए किया था। तराना बर्क के अनुसार, यह शब्द उनके दिमाग में तब आया था जब उन्हें एक 13 साल की बच्ची ने बताया था कि उसका भी यौन उत्पीड़न हुआ है।

भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरEnglish Premier League : मैनचेस्टर युनाइटेड ने सिटी के 21 मैचों के विजयक्रम को तोड़ा******लंदन| मैनचेसटर युनाइटेड ने ऐतिहाद स्टेडियम में खेले गए इंग्लिश प्रीमियर लीग (ईपीएल) के मुकाबले में अपने प्रतिद्वंद्वी मैनचेस्टर सिटी को 2-0 से हराकर सभी प्रतियोगिताओं में पिछले 21 मैचों से चले आ रहे उसके जीत के सिलसिले को तोड़ दिया। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, रविवार रात खेले गए इस मुकाबले में मैनचेस्टर युनाइटेड के लिए ब्रुनो फर्नाडीज ने दूसरे मिनट में पेनाल्टी पर गोल करके टीम को 1-0 से आगे कर दिया।इसके बाद ल्यूक शॉ ने 50वें मिनट में दूसरा गोल करते हुए युनाइटेड को 2-0 की शानदार बढ़त दिला दी। मैनचेस्टर युनाइटेड ने इस बढ़त को अंत तक कायम रखते हुए मैनचेस्टर सिटी के पिछले 21 मैचों से जारी विजयक्रम को तोड़ दिया।इस हार के बाद भी मैनचेस्टर सिटी 28 मैचों में 65 अंकों के साथ टॉप पर कायम है। उसके मैनचेस्टर युनाइटेड से 11 अंक ज्यादा है।मैनचेस्टर युनाइटेड लीग में घर से बाहर पिछले 22 मैचों से अजेय है और इसमें से उसने 14 जीते भी हैं।भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में चल रहे घमासान के बीच ठाणे में धारा 144 लागू, पुलिस ने जारी की चेतावनी******Highlights महाराष्ट्र में चल रहे राजनीतिक ड्रामे के बीच अब मुंबई पुलिस भी सतर्क हो गई है।राजनीतिक हलचलों के बीच पुलिस प्रशासन ने थानों को अलर्ट जारी किया है। प्रदेश में जारी राजनीतिक अस्थिरता और शिवसेना में अलग अलग गुट में टकराव की स्तिथि को देखते हुए ठाणे जिंला प्रसाशन ने आदेश जारी कर 30 जून तक ठाणे जिले में किसी भी प्रकार के राजनीतिक जुलूस और भीड़ के इकट्ठा होने या नारेबाजी आदि पर लगाई रोक लगा दी है। साथ ही किसी भी तरह की राजनीतिक पोस्टरबाजी करने पर पुलिस ने प्रतिबंध लगा दिया है। पुलिस के द्वारा जारी के आदेश में कहा गया है कि कोई भी व्यक्ति लाठी, डंडे और एनी किसी भी तरह का हथियार अपने पास न रखे।पुलिस के आदेशानुसार, अगर किसी व्यक्ति के पास लाठी, डंडा तलवार, भाला, बंदूक़ ,चाकू और पत्थर या किसी भी तरह का हथियार मिला तो उसके ख़िलाफ़ सख्त कार्रवाई की जाएगी। साथ ही कहा गया है कि क्षेत्र में किसी भी प्रकार भीड़ इकट्ठा होकर नारेबाजी करने पर सख्त मनाही है। किसी एक जगह पर 5 से ज्यादा लोग इकट्ठे न हों इसके लिए इअलाके में धारा-144 लागू कर दी गई है। धारा-144 के बाबत कलेक्टर ने बीती रात आदेश जारी किये हैं।आपको बता दें कि ठाणे को एकनाथ शिंदे का गढ़ माना जाता है। यहां उनके समर्थकों और शिवसेना के समर्थकों में टकराव हो गया था। जिसके बाद प्रशासन ने यह निर्णय लिया है। गौरतलब है कि आज शिवसेना ने अपनी सभी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को बुलाया है। इसके अलावा आदित्य ठाकरे भी पार्टी के नेताओं को संबोधित करेंगे। दूसरी तरफ महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले के बीच आज महाराष्ट्र की मौजूदा सियासी स्थिति पर चर्चा होगी।

भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरसटोरियों के सौदे बढ़ाने से सोना वायदा मजबूत, 8 साल में पहली बार सोना 1500 डॉलर प्रति औंस के पार******Gold futures घरेलू बाजार में मजबूत रुख के बीच सटोरियों के सौदे बढ़ाने से बुधवार को में 243 रुपये मजबूत होकर 37,740 रुपये प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया। में, अक्टूबर महीने में डिलिवरी वाला सोना 243 रुपये यानी 0.65 प्रतिशत की तेजी के साथ 37,740 रुपये प्रति दस ग्राम पर रहा। इसमें 3,437 लॉट का कारोबार हुआ। इसी प्रकार, दिसंबर में डिलिवरी वाले सौदे में सोना 282 रुपये यानी 0.74 प्रतिशत चढ़कर 38,247 रुपये प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया। इसमें 215 लॉट का कारोबार हुआ। बाजार सूत्रों ने कहा कि सटोरियों के सौदे बढ़ाने से वायदा कारोबार में सोने के भाव में नरमी आई। अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर सोना बुधवार को 1,500 डॉलर प्रति औंस के पार चला गया है, जो कि पिछले आठ साल का सबसे ऊंचा स्तर है। वहीं, भारतीय वायदा बाजार एमसीएक्स पर सोने का भाव फिर नई ऊंचाई पर चला गया है। वैश्विक स्तर पर न्यूयॉर्क में सोना 0.96 प्रतिशत गिरकर 1,498.50 डॉलर प्रति औंस पर रहा।अमेरिका और चीन के बीच जारी ट्रेड वॉर और प्रमुख एशियाई करेंसी में आई कमजोरी के चलते महंगी धातुओं के दाम में जोरदार उछाल आया है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोने में लगातार चार दिनों से जबकि चांदी में तीन दिनों से तेजी का सिलसिला जारी है।विदेशी बाजार से मिले कमजोर संकेतों और घरेलू मुद्रा में आई कमजोरी से भारत में भी सोने और चांदी के दाम में जबरदस्त तेजी देखी जा रही है और दोनों धातुएं लगातार नई ऊंचाइयों को छू रही हैं। पूर्वाह्न् 10.46 बजे मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर सोने के अक्टूबर अनुबंध में पिछले सत्र से 195 रुपये यानी 0.52 फीसदी की तेजी के साथ 37,692 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा था, जबकि इससे पहले सोने का भाव 37,830 रुपये तक उछला जो कि अब तक का सबसे ऊंचा स्तर है।चांदी के सितंबर अनुबंध में 556 रुपये यानी 1.31 फीसदी की तेजी के साथ 43,043 रुपये प्रति किलो पर कारोबार चल रहा था जबकि इससे पहले चांदी का भाव 43,260 रुपये तक उछला। एमसीएक्स पर चांदी का भाव पांच अक्टूबर 2016 के बाद के सबसे ऊंचे स्तर पर है।कॉमेक्स पर सोने के दिसंबर अनुबंध में 11.6 डॉलर यानी 0.78 फीसदी की तेजी के साथ 1,495.80 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था जबकि इससे पहले कॉमेक्स पर सोने का भाव 1,502.25 डॉलर प्रति औंस तक उछला। कॉमेक्स पर सोने का भाव तकरीबन आठ साल के ऊंचे स्तर पर बना हुआ है क्योंकि जुलाई 2011 के बाद पहली बार सोने का भाव 1,500 डॉलर के पार गया है।चांदी का सितंबर अनुबंध कॉमेक्स पर 1.66 फीसदी की तेजी के साथ 16.718 डॉलर प्रति औंस पर बना हुआ था जबकि इससे पहले भाव 16.817 डॉलर प्रति औंस तक उछला जो कि जून 2018 के बाद का स्तर है। कॉमेक्स पर चांदी का भाव करीब 13 महीने के ऊंचे स्तर पर है।कमोडिटी बाजार विश्लेषक अजय केडिया ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि महंगी धातुओं के प्रति निवेशकों का रुझान बढ़ने का मुख्य कारण ट्रेड वॉर है और इसी वजह से एशियाई मुद्राओं में भारी गिरावट आई है जिससे सोने और चांदी के भाव में उछाल आया है।उन्होंने बताया कि इसके अलावा दुनियाभर में केंद्रीय बैंकों द्वारा सोने में खरीदारी किए जाने से सोने को सपोर्ट मिला है। केडिया ने वल्र्ड गोल्ड कांउसिल के आंकड़ों का जिक्र करते हुए बताया कि 2019 की दूसरी तिमाही में केंद्रीय बैंकों ने 224.4 टन सोने की खरीदारी की जबकि 2019 की पहली छमाही के आंकड़ों को देखें तो यह 374.1 टन है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा ईटीएफ की खरीदारी में भी जबरदस्त इजाफा हुआ है।भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरInfinix HOT 10 की ब्रिक्री 16 अक्टूबर से Flipkart पर, 5 कैमरे वाले दमदार स्मार्टफोन की कीमत 10 हजार से कम******Flipkart Big Billion Days sale: Infinix HOT 10 goes live on October 16नई दिल्ली: Infinix के हॉट सीरीज के सबसे दमदार स्मार्टफोन HOT 10 की ब्रिक्री 16 अक्टूबर को दोपहर 12 बजे से फ्लिपकार्ट की बिग बिलियन डेज़ सेल के दौरान शुरू हो रही है। आप मात्र 9999 रुपए की शुरुआती कीमत पर इसे वहां से खरीद सकेंगे। HOT10 स्मार्टफोन अपनी हॉट सीरीज का सबसे एडवांस, लेटेस्ट डिजाइन, शक्तिशाली चिपसेट से लैस है, जो ग्राहकों को नक्सट लेवल स्मार्टफोन का अनुभव देगा। यह चार आकर्षक रंग ओशन वेव, एम्बर रेड, ओब्सीडियन ब्लैक और मूनलाइट जेड रूप में उपलब्ध होगा।हॉट10 6GB DDR4 रैम/ 128GB ROM के साथ अल्ट्रा-शक्तिशाली MediaTek Helio G70 ऑक्टा-कोर प्रोसेसर से लैस है। इनफिनिक्स हॉट 10 में 6.78 इंच 1640 x 720 पिक्सल एचडी+ एलसीडी आईपीएस इन-सेल डिस्प्ले है। फोन ऐंड्रॉयड 10 पर चलता है। इनफिनिक्स के इस स्मार्टफोन में 6GB रैम व 128GB इनबिल्ट स्टोरेज दी गई है। स्टोरेज को माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए 256GB तक बढ़ाया जा सकता है।HOT 10 में मल्टीफंक्शनल फिंगरप्रिंट सेंसर और फेस अनलॉक फीचर भी है जो 0.3 सेकंड में फोन को अनलॉक कर देता है। इनफिनिक्स हॉट 10 को पावर देने के लिए 5200mAh बैटरी दी गई है। इनफिनिक्स के इस बजट स्मार्टफोन में पीछे की तरफ चार कैमरे दिए गए हैं। इनमें 16 मेगापिक्सल के मेन सेंसर के साथ 2 मेगापिक्सल के दो सेंसर और एक AI लेंस शामिल है। सेल्फी और वीडियो कॉलिंग के लिए फोन के फ्रंट में 8 मेगापिक्सल का कैमरा दिया गया है।भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरUttar Pradesh Chunav Manch 2021: तस्वीरों में देखिए योगी का आक्रामक अंदाज, 2022 के लिए क्या है BJP का गेमप्लान?******इंडिया टीवी के विशेष कार्यक्रम चुनाव मंच (Uttar Pradesh Chunav Manch 2021) में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के कई अहम मुद्दों पर चर्चा की जिसमें से एक सुरक्षा के मुद्दे पर उन्होनें कहा कि2017 के पहले उत्तर प्रदेश की एक सामान्य छवि देश और दुनिया में अलग थी। उसमें पहचान का एक संकट था। मैं जब संसद में अपना इस्तीफा सौंपने के लिए गया था तब भी मैंने कहा था कि हम उत्तर प्रदेश की छविबदलने के लिए जा रहे हैं। उस छवि को बदलने के लिए सबसे अच्छा माध्यम था कि हम लोगों के मन सुरक्षा को लेकर एक विश्वास पैदा करें। उत्तर प्रदेश सबसे बड़ी आबादी का राज्य है, लेकिन सांप्रदायिक दंगों के मामले मेंसबसे नीचे है। महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले में 28वें नंबर पर है।हम लोगों ने जो नामकरण किया हैं, ये उन शहरों की पौराणिक पहचान रही है। आप अयोध्या को किस रूप में जानना चाहेंगे, अयोध्या के रूप में या फैजाबाद के रूप में? वैसे ही प्रयागराज का भी नाम है। इलाहाबाद बहुतबाद का नाम है। रामायण में भी प्रयाग का उल्लेख है। प्रयागराज हम सबकी, भारत के सनातन मूल्यों की पहचान थी। हमने प्रयागराज नाम रखकर कुंभ किया, पूरी दुनिया वहां आई। पहले वहां भगदड़ वगैरह की बातें सामनेआती थीं।असदुद्दीन ओवैसी तो यहां किसी का हित करने नहीं आ रहे हैं। लेकिन उन्होंने मुसलमानों को बैंड बाजा वालों की तरह बताया है तो इसमें कुछ सच्चाई तो जरूर होगी। आज यूपी की कोई पार्टी ऐसी नहीं है जो कह सके किउसे जनता ने मौका नहीं दिया है। उत्तर प्रदेश में मुस्लिमों की आबादी 19 फीसदी है जबकि सरकारी योजनाओं में भागीदारी 35 फीसदी। मुसलमानों को सरकारी योजनाओं से काफी फायदा पहुंचा है। यूपी में मुसलमानों को घरऔर राशन भी मिले हैं। हम किसी का मजहब, जाति या चेहरा देखकर काम नहीं करते है।अखिलेश यादव जैसे नेता 12 बजे सोकर उठते हैं। इसके बाद 2 बजे तक तैयार होते हैं। इसके बाद अपनी मित्र मंडली के साथ लंच लेने के बाद क्रिकेट खेलने जाते हैं। इसके बाद शाम को साइकिल लेकर पार्क में निकलजाएंगे। इनके पास पढ़ने, लिखने कुछ देखने की फुर्सत तो होती नहीं है। इसलिए इनको जमीनी हकीकत की कोई जानकारी नहीं है और इसे प्रदेश का हर नागरिक भी जानता है।पंचायत चुनावों में 75 में से 67 जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी के बने हैं। 826 विकास खंडों में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में बीजेपी के कार्यकर्ता 650 से ज्यादा सीटों पर विजयी हुए हैं। 2019 के चुनावोंमें जनता ने महागठबंधन को खारिज किया था। जनता ने हर चुनाव में अपनी सोच दिखाई है।

भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरलोकसभा चुनाव नतीजे: मोदीमय हुआ बनारस, हर जगह सिर्फ यही चर्चा...कितनी बड़ी होगी मोदी की जीत****** की मतगणना के दिन यहां पान की दुकानों पर सिर्फ ‘बनारसी पान’ नहीं बिक रहे हैं बल्कि यहां अमिताभ बच्चन अभिनीत फिल्म ‘डॉन’ का गाना ‘खइके पान बनारस वाला’ की धुन हर जगह सुनाई पड़ रही है। इस दौरान राजनीति की चर्चा भी जोरों पर है। पान की दुकानों पर केवल इस बात की चर्चा नहीं है कि इस लोकसभा सीट पर कौन जीतेगा बल्कि वाराणसी से सांसद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कितने वोटों से जीतेंगे, इस बात की ज्यादा चर्चा हो रही है।मोदी ने 2014 के आम चुनाव में यहां से आम आदमी पार्टी के प्रमुख को तीन लाख 37 हजार मतों से हराया था। उन्हें कुल पांच लाख 16 हजार 593 वोट मिले थे। मोदी की रिकॉर्ड मतों से जीत का इंतजार करते हुए, बैजू भइया तांबुल भंडार में हर कोई टीवी पर टकटकी लगाए है, वहीं बलदेव टी स्टाल के मालिक बलदेव भाई अपनी चाय की दुकान ही बंद कर घर पर चुनावी माहौल का आनंद ले रहे हैं।वाराणसी में भाजपा प्रत्याशी नरेंद्र मोदी का मुकाबला सपा की शालिनी यादव और कांग्रेस प्रत्याशी अजय राय से है।महमूरगंज स्थित बलदेव टी स्टाल पर चाय पीने नियमित आने वाले रंजीत ठाकुर ने कहा कि बलदेव मोदी के जबरदस्त प्रशंसक हैं और आज उन्होंने चुनावी नतीजे देखने के लिए अपनी दुकान ही बंद कर रखी है। ठाकुर ने कहा कि मोदी के मुकाबले बनारस में कहीं कोई खड़ा नहीं दिखता। बनारस को छोड़ दें तो अन्य जगहों पर भी मोदी के नाम पर वोट पड़े हैं और लगता है कि इस बार जाति की राजनीति खत्म होने के कगार पर है।सिगरा रोड स्थित बैजू भइया तांबुल भंडार पर पान खाने पहुंचे मनोज मिश्रा ने कहा कि हमें लगता है कि इस चुनाव में मोदी 9 लाख से ज्यादा मतों से जीतेंगे। यहां तो मोदी के अलावा कोई सीन में है ही नहीं। मिश्रा ने कहा इस बार लोगों ने विकास के नाम पर वोट किया है न कि जाति के नाम पर। विपक्ष द्वारा ईवीएम में गड़बड़ी के आरोपों पर उन्होंने कहा ‘‘ईवीएम में गड़बड़ी करना आसान नहीं है। पांच लोगों के हस्ताक्षर होते हैं.. पार्टी के लोग पहरेदारी करते हैं.. इतनी सुरक्षा के बावजूद ईवीएम में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए इन नेताओं को शर्म नहीं आती।’’जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रजानाथ मिश्रा ने कहा, ‘‘चुनाव का जो रुख दिख रहा है, उससे जनता के मूड का पता चलता है। हमें लगता है कि हमारे चुनाव प्रबंधन में कमी रही.. दिल्ली और लखनऊ के बीच समन्वय ठीक नहीं रहा। हमने जो स्टार प्रचारक मांगे हमें नहीं दिए गए। यह कोई छोटी बात नहीं है कि पांच साल हमने कांग्रेस को सड़क पर जिंदा रखा।’’ महागठबंधन पर उन्होंने कहा, ‘‘सपा-बसपा ने भाजपा को जिताने के लिए यह गठबंधन किया था। ये दोनों ही पार्टियां उत्तर प्रदेश तक सीमित हैं, जबकि यह देश का चुनाव है। अगर वे सही में गंभीर होते तो देशभर की पार्टियों से महागठबंधन करते।’’वाराणसी में लोकसभा चुनाव के लिए मतदान अंतिम चरण में 19 मई को हुआ था। मोदी के रोड शो के दौरान मंदिरों के इस शहर में हजारों की भीड़ सड़कों पर उमड़ पड़ी थी और उसने ‘‘मोदी, मोदी’’ तथा ‘‘मैं भी चौकीदार’’ के नारे लगाए थे। अमित शाह, पीयूष गोयल, सुषमा स्वराज और योगी आदित्यनाथ ने भी प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में चुनाव प्रचार किया था। विपक्षी दलों की तरफ से प्रियंका गांधी के अलावा राहुल गांधी, अखिलेश यादव और मायावती ने भी रोड शो किए थे।मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ रहीं सपा-बसपा गठबंधन की शालिनी यादव पूर्व केंद्रीय मंत्री श्यामलाल यादव की बेटी हैं। पहले इस सीट से प्रियंका गांधी के भी चुनाव लड़ने के कयास लगाए गए थे।भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरशीर्ष 10 में 6 कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 65,060 करोड़ रुपए बढ़ा, RIL और HDFC को हुआ सबसे ज्यादा फायदा******Six of top-10 firms add Rs 65,060 crore in m-cap; RIL, HDFC lead सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से छह कंपनियों का बाजार पूंजीकरण बीते सप्ताह 65,060.30 करोड़ रुपए बढ़ गया। रिलायंस इंडस्ट्रीज और एचडीएफसी के बाजार पूंजीकरण में सर्वाधिक वृद्धि दर्ज की गयी। आलोच्य सप्ताह के दौरान एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और भारतीय स्टेट बैंक का भी बाजार पूंजीकरण बढ़ गया। हालांकि टीसीएस, हिंदुस्तान यूनिलीवर, इन्फोसिस और आईटीसी के बाजार पूंजीकरण में इस दौरान गिरावट दर्ज की गयी। का बाजार पूंजीकरण सर्वाधिक 17,439.74 करोड़ रुपए बढ़कर 10,03,147.26 करोड़ रुपए पर पहुंच गया। इसके साथ ही एचडीएफसी का बाजार पूंजीकरण 15,435.51 करोड़ रुपए बढ़कर 4,06,705.23 करोड़ रुपए, भारतीय स्टेट बैंक का बाजार पूंजीकरण 11,512.75 करोड़ रुपए की वृद्धि के साथ 2,96,921.83 करोड़ रुपए, एचडीएफसी बैंक का बाजार पूंजीकरण 9,089.48 करोड़ रुपए चढ़कर 6,91,457.21 करोड़ रुपए, आईसीआईसीआई बैंक का 8,210.91 करोड़ रुपए की बढ़त लेकर 3,47,551.97 करोड़ रुपए और कोटक महिंद्रा बैंक का बाजार पूंजीकरण 3,371.91 करोड़ रुपए उछलकर 3,23,236.17 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।इनके उलट टीसीएस का बाजार पूंजीकरण 19,231 करोड़ रुपए गिरकर 7,77,381.54 करोड़ रुपये, हिंदुस्तान यूनिलीवर का बाजार पूंजीकरण 4,372.92 करोड़ रुपए कम होकर 4,34,109.76 करोड़ रुपए, आईटीसी का बाजार पूंजीकरण 2,027.73 करोड़ रुपए लुढ़ककर 2,96,971.03 करोड़ रुपए और इन्फोसिस का बाजार पूंजीकरण 1,660.8 करोड़ रुपए फिसलकर 3,02,882.73 करोड़ रुपए पर आ गया। बाजार पूंजीकरण के लिहाज से रिलायंस इंडस्ट्रीज शीर्ष पर बनी रही। इसके बाद क्रमश: टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, इन्फोसिस, आईटीसी और भारतीय स्टेट बैंक का स्थान रहा। आलोच्य सप्ताह के दौरान बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 564.56 अंक यानी 1.39 प्रतिशत की बढ़त में रहा।

भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरसरकार ने पांच सार्वजनिक बैंकों को दिए 21,428 करोड़ रुपए, इन बैंकों में सरकारी हिस्‍सेदारी में हुआ इजाफा******capital infusionसार्वजनिक क्षेत्र के पांच बैंकों को सरकार से 21,428 करोड़ रुपए का मिला है। इन बैंकों को गुरुवार को अपने शेयरधारकों से सरकार को शेयरों के तरजीही आवंटन के जरिये पूंजी प्राप्त करने के प्रस्ताव पर मंजूरी मिल गई।इन बैंकों को यह पूंजी निवेश 31 मार्च, 2019 को समाप्त होने वाले वित्त वर्ष के लिए मिला है। इन बैंकों में पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी), बैंक आफ बड़ौदा (बॉब) और यूनियन बैंक शामिल हैं। पीएनबी ने शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा कि उसके शेयरधारकों की यहां हुई असाधारण आम बैठक में सरकार को तरजीही आधार पर 80,20,63,535 इक्विटी शेयर प्रीमियम के साथ 71.66 रुपए प्रति शेयर के मूल्य पर जारी और आवंटित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। इससे बैंक को 5,908 करोड़ रुपए की पूंजी प्राप्त हुई है।बैंक ऑफ बड़ौदा ने कहा कि वित्त मंत्रालय ने उसे 5,042 करोड़ रुपए की पूंजी डालने के फैसले के बारे में सूचित किया है।यूनियन बैंक ने कहा कि पूंजी कोष जुटाने के लिए ऋणदाताओं की समिति (सीडीआरसीएफ) ने गुरुवार को 78.84 रुपए के निर्गम मूल्य पर सरकार को 52,15,62,658 इक्विटी शेयर जारी कर 4,111.99 करोड़ रुपए जुटाने की मंजूरी दे दी।इंडियन ओवरसीज बैंक (आईओबी) ने बयान में कहा कि उसके शेयरधारकों की 28 मार्च को हुई असाधारण आम बैठक में 14.12 रुपए (4.12 रुपए प्रीमियत सहित) प्रति शेयर के निर्गम मूल्य पर 2,69,54,67,422 इक्विटी शेयर तरजीही आधार पर सरकार को जारी करने के विशेष प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। बैंक को सरकार से 3,806 करोड़ रुपए का पूंजी निवेश मिलेगा।इससे बैंक में सरकार की हिस्सेदारी 89.39 प्रतिशत से बढ़कर 92.52 प्रतिशत हो जाएगी।इसी तरह सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने 37.25 रुपए प्रति शेयर के मूल्य पर 68,72,48,322 शेयर जारी कर 2,560 करोड़ रुपए की पूंजी जुटाई है। इससे बैंक में सरकार की हिस्सेदारी 89.40 प्रतिशत से बढ़कर 91.20 प्रतिशत हो गई।

भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरगाजा बॉर्डर: इस्राइली सेना ने फिर बरसाईं गोलियां, एक पत्रकार समेत 10 फिलिस्तीनियों की मौत****** में विरोध प्रदर्शन के दौरान द्वारा की गई गोलीबारी में एक समेत 10 फिलिस्तीनियों की मौत हो गई है। फिलिस्तीनी अधिकारियों ने बताया कि इसके अलावा 1,000 से ज्यादा लोग गोली लगने से घायल हुए हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह घटना शुक्रवार को उस समय हुई, जब इस्राइली सेना ने इस्राइल की सीमा के पास प्रदर्शनकारियों पर अंधाधुंध गोलियां चला दी। मृत लोगों में वह फिलिस्तीनी पत्रकार भी शामिल है, जिसे इस्राइली सेना ने इस घटना को कवर करने के दौरान गोली मार दी थी।गाजा स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता अशरफ अल केद्रा ने इस बात की पुष्टि की है कि संघर्ष में 10 लोग मारे गए। गोला-बारूद और विस्फोटकों में घायल हुए 491 लोगों सहित कुल 1,354 लोग घायल हुए हैं। वहीं, मृत पत्रकार के बारे में बात करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि गाजा आधारित ऐन मीडिया एजेंसी के फोटोग्राफर यासिर मुर्तजा को शुक्रवार को गोलियां लगी थी। इस्राइली सेना ने इसपर कोई टिप्पणी करने से यह कहते हुए इनकार कर दिया कि वह घटना की समीक्षा कर रही है।इस्राइल-गाजा सीमा पर शुक्रवार को करीब 20,000 फिलिस्तीनियों ने विरोध प्रदर्शन किया, जिसे 'फ्राइडे ऑफ टायर्स' नाम दिया गया। इस बीच संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय ने गाजा में 30 मार्च को विरोध प्रदर्शन के दौरान इस्राइली सैनिकों द्वारा कथित तौर पर अत्यधिक बल प्रयोग करने की निंदा की, जहां कम से कम 16 लोग मारे गए थे और 1,000 से अधिक घायल हुए थे। हालांकि, शुक्रवार को हुआ विरोध प्रदर्शन पिछले सप्ताह के मुकाबले उतना व्यापक नहीं था, जिसमें करीब 30,000 लोगों के शामिल होने का अनुमान लगाया गया था।भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरUkraine Russia News: अमेरिका ने यूक्रेन के सैन्य ठिकाने पर रूसी मिसाइल हमले की निंदा की है******Highlightsअमेरिका ने यूक्रेन के सैन्य ठिकाने पर रूसी मिसाइल हमले की निंदा की है। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने कहा- 'हम पोलैंड से सटी यूक्रेन की सीमा के करीब यवोरिव में इंटरनेशनल सेंटर फॉर पीसकीपिंग ऐंड सिक्योरिटी पर रूस के मिसाइल हमले की निंदा करते हैं। यह क्रूरता बंद होनी चाहिए।'रूसी सेना ने रविवार सुबह पश्चिमी यूक्रेन में एक सैन्य प्रशिक्षण अड्डे पर हमला किया, जिससे रूस का आक्रमण पोलैंड के साथ यूक्रेन की लगती सीमा के करीब पहुंच गया है। क्षेत्रीय प्रशासन ने संभावित हताहतों के बारे में कोई विवरण दिए बिना कहा कि ल्वीव के उत्तर-पश्चिम में 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यारोविव सैन्य रेंज में आठ रॉकेट दागे गए। यह सीमा पोलैंड के साथ यूक्रेन की सीमा से 35 किलोमीटर दूर है।अमेरिका ने 2015 से यूक्रेन की सेना को प्रशिक्षित करने के लिए नियमित रूप से प्रशिक्षकों को सैन्य रेंज में भेजा है, जिसे यारोविव इंटरनेशनल पीसकीपिंग एंड सिक्योरिटी सेंटर के रूप में भी जाना जाता है और इस केंद्र ने अंतरराष्ट्रीय नाटो सैन्य अभ्यास की मेजबानी भी की है।

भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरबिजली वितरण कंपनियों पर बिजली उत्पादकों के बकाए में भारी वृद्धि, बकाया 57% बढ़कर 73,748 करोड़ रुपए पहुंचा******power producers बिजली वितरण कंपनियों पर का बकाया जुलाई में 57 प्रतिशत से अधिक बढ़कर 73,748 करोड़ रुपए पहुंच गया। इससे पिछले साल जुलाई में यह राशि 46,779 करोड़ रुपए थी। इस संबंध में आंकड़े जुटाने वाले प्राप्ति पोर्टल पर उपलब्ध नवीनतम जानकारी में यह बात सामने आयी है। इस पोर्टल की शुरुआत मई 2018 में बिजली खरीद लेनदेन में पारदर्शिता लाने के लिए की गयी थी।बिजली उत्पादक कंपनियां, वितरण कंपनियों को भुगतान करने के लिए 60 दिन की अवधि (ग्रेस पीरियड) उपलब्ध कराती हैं। इस अवधि के बीत जाने के बाद भी वितरण कंपनियों द्वारा नहीं चुकाया गया कुल विलंबित बकाया जुलाई में 54,342 करोड़ रुपए रहा जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 30,331 करोड़ रुपए था। बिजली उत्पादक कंपनियों को राहत प्रदान करने के लिए केंद्र सरकार ने एक अगस्त से भुगतान सुरक्षा व्यवस्था शुरू की है। इसमें बिजली वितरण कंपनियों को उधार पर बिजली खरीदने केलिए बैंकों से निरंतर मान्य साख-पत्र की जरूरत होगी।पोर्टल के अनुसार, कुल बकाया और विलंबित बकायों में जून 2019 के मुकाबले भी वृद्धि हुई है। जून में वितरण कंपनियों का कुल बकाया 69,905 करोड़ रुपए था जिसमें विलंबित बकायों की राशि 51,748 करोड़ रुपए थी। उत्पादकों के बकाए का बड़ा हिस्सा राजस्थान, जम्मू-कश्मीर, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक की वितरण कंपनियों पर है। इनमें से कुछ बकाया 820 दिन तक का हो गया है। इस मामले में 820 दिन पुराने बकाए के साथ राजस्थान और बिहार की स्थिति सबसे खराब है। हरियाणा और आंध्र प्रदेश में 818 दिन, मध्य प्रदेश 805 दिन, तेलंगाना 798 दिन, कर्नाटक 792 दिन और तमिलनाडु 791 दिन के बकाए चल रहे थे। वितरण कंपनियों पर स्वतंत्र बिजली उत्पादकों का विलंबित बकाया ऐसी कुल बकाया राशि 54,342 करोड़ रुपए का 23.57 प्रतिशत हो गया है।प्रमुख सरकारी बिजली उत्पादकों में एनटीपीसी का 7,778.38 करोड़ रुपए, एनएलसी इंडिया का 4,693.48 करोड़ रुपए, टीएचडीसी इंडिया का 1,954.24 ककरोड़ रुपए, एनएचपीसी का 1,613.84 करोड़ रुपए और दामोदर घाटी निगम का 786.69 करोड़ रुपए बकाया है। वहीं निजी क्षेत्र के बिजली उत्पादकों में अडाणी पावर का 3,201.68 करोड़ रुपए, बजाज समूह की ललितपुर बिजली उत्पादक कंपनी का 2,212.66 करोड़ रुपए और जीएमआर का 1,733.18 करोड़ रुपए बकाया है।भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरअहमदाबाद और सूरत के बाद वडोदरा में भी रात्रि कर्फ्यू का समय बढ़ाया गया, माल-सिनेमाघर शनिवार-रविवार को बंद रहेंगे******गुजरात के अहमदाबाद और सूरत के बाद अब वडोदरा में भी रात्रि कर्फ्यू (Night Curfew) का समय रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक कर दिया गया है। साथ ही वडोदरा में भी मॉल और सिनेमाघर शनिवार और रविवार को बंद रहेंगे।गुजरात के सूरत शहर में कोरोना वायरस के 300 से अधिक नए मामले आने के बाद नगर निगम ने रात के समय कर्फ्यू की अवधि एक घंटे तक और बढ़ाने का फैसला किया है। सूरत नगर निगम (एसएमसी) ने शुक्रवार को कहा कि अब रात को 10 बजे के बजाय नौ बजे से कर्फ्यू शुरू होगा और सुबह छह बजे खत्म होगा। उसने कहा कि कर्फ्यू की नयी अवधि शुक्रवार रात से लागू होगी।नगर निगम ने एक विज्ञप्ति में कहा कि अन्य राज्यों से आ रहे लोगों और सूरत शहर में होटलों या गेस्ट हाउसों में रुकने वाले लोगों को आरटी-पीसीआर जांच में कोरोना वायरस से संक्रमित न पाए जाने की रिपोर्ट दिखानी होगी।गुजरात में गुरुवार (18 मार्च) को आए कोविड-19 के कुल 1,276 नए मामलों में से 324 मामले अकेले सूरत शहर में दर्ज किए गए। गुजरात सरकार ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए तीन दिन पहले अहमदाबाद और सूरत समेत चार बड़े शहरों में रात के कर्फ्यू का समय दो घंटे तक बढ़ा दिया था। अहमदाबाद नगर निगम ने भी बृहस्पतिवार को ऐसा ही कदम उठाया और कर्फ्यू का समय एक घंटे तक बढ़ाकर रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक कर दिया।

भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटर1000 रुपए में शुरू हुई OnePlus 7 Pro की प्री-बुकिंग, कंपनी बुकिंग करने वालों को दे रही है 15,000 का फायदा******OnePlus 7 Pro pre-booking on Amazon India begin चीन की प्रीमियम स्‍मार्टफोन निर्माता कंपनी वनप्‍लस ने अपने नए फ्लैगशिप स्‍मार्टफोन के लिए भारत में प्री-बुकिंग शुरू कर दी है। उल्‍लेखनीय है कि कंपनी 14 मई को वनप्‍लस 7 सीरीज को लॉन्‍च करने जा रही है। कंपनी ने लॉन्‍च इवेंट के लिए इनवाइट पहले ही भेज दिए हैं। वनप्‍लस 7 प्रो के लिए प्री-बुकिंग शुक्रवार से अमेजन डॉट इन पर शुरू हो चुकी है। कंपनी ने प्री-बुकिंग कराने वाले उपभोक्‍ताओं के लिए एक शानदार ऑफर की भी घोषणा की है। प्री-बुक करने के लिए आपको वनप्‍लस 7 प्रो अमेजन डॉट इन ईमेल गिफ्ट कार्ड पेज पर जाना होगा। यहां आपको 1000 रुपए के भुगतान के साथ 3 से 7 मई के बीच वनप्‍लस 7 प्रो गिफ्ट कार्ड को खरीदना है। गि‍फ्ट कार्ड खरीदने के बाद यूजर्स को रजिस्‍टर्ड ई-मेल आईडी पर एक गिफ्ट कार्ड प्राप्‍त होगा और बाद यूजर्स को सेल शुरू होने के 60 घंटे के भीतर वनप्‍लस 7 प्रो को खरीदना होगा और फोन की कीमत में से गिफ्ट कार्ड का एमाउंट डिडक्‍ट हो जाएगा। भुगतान प्रक्रिया पूरी होने के बाद उपभोक्‍ता को 15,000 रुपए मूल्‍य का एक एक्‍सीडेंटल स्‍क्रीन रिप्‍लेसमेंट इंश्‍योरेंस प्राप्‍त होगा और इसकी वैलेडिटी डिवाइस को खरीदने की तारीख से लेकर 6 माह तक होगी।यूजर्स वनप्‍लस 7 प्रो की प्री-बुकिंग के लिए वनप्‍लस स्टोर, क्रोमा और रिलायंस स्‍टोर पर भी जा सकते हैं, जहां उन्‍हें इसके लिए 2,000 रुपए का भुगतान करना होगा। फोन खरीदते वक्‍त यह राशि कुल एमाउंट में से घटा दी जाएगी। वनप्‍लस 7 की बिक्री 8 मई से शुरू होगी। ऑफलाइन प्री-बुकिंग करने वाले उपभोक्‍ताओं को भी 15,000 रुपए मूल्‍य का वन-टाइम एक्‍सीडेंटल स्‍क्रीन रिप्‍लेसमेंट इंश्‍योरेंस दिया जाएगा।भारतीयखिलाड़ीजोबनसकतेहैंक्रिकेटकमेंटेटरRINL चालू वित्‍त वर्ष में करेगी 64 लाख टन तरल इस्पात का उत्पादन, जून में होगा MoU******RINL aims to produce 6.4 MT of liquid steel; 5.8 MT of saleable metal in FY20सार्वजनिक क्षेत्र की (आरआईएनएल) ने चालू वित्त वर्ष 2019-20 में 64 लाख टन तरल इस्पात और 58 लाख टन बिक्री योग्य धातु के उत्पादन का लक्ष्य रखा है। कंपनी के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।अधिकारी ने कहा कि कंपनी इस बारे में जून के पहले सप्ताह में इस्पात मंत्रालय के साथ सहमति ज्ञापन (एमओयू) पर दस्तखत करेगी।अधिकारी ने बताया कि यह एमओयू अंतिम चरण में है और इस पर अगले सप्ताह दस्तखत हो सकते हैं। चालू वित्त वर्ष में तरल इस्पात और बिक्री योग्य इस्पात के उत्पादन का लक्ष्य क्रमश: 64 लाख टन और 58 लाख टन रखा गया है।वित्त वर्ष 2018-19 में आरआईएनएल ने 61 लाख टन तरल इस्पात के उत्पादन का लक्ष्य रखा था लेकिन वह 55 लाख टन का ही उत्पादन कर पाई। इसी तरह कंपनी ने 55 लाख टन बिक्री योग्य इस्पात उत्पादन का लक्ष्य रखा था लेकिन उसका उत्पादन 50 लाख टन ही रहा था।इस करार पर इस्पात मंत्रालय के सचिव बिनय कुमार और आरआईएनएल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक पी के रथ हस्ताक्षर करेंगे।प्रत्‍येक पीएसयू को सालाना आधार पर वित्‍त वर्ष के लिए लक्ष्‍य तय करना होता है और इस संबंध में संबंधित मंत्रालय के साथ सहमति पत्र पर हस्‍ताक्षर करने होते हैं।चालू वित्‍त वर्ष के लिए आरआईएनएल ने 25,000 करोड़ रुपए के टर्नओवर का लक्ष्‍य तय किया है, जो कि 2018-19 में 20,844 करोड़ रुपए रहा है। विशाखापट्नम स्‍टील प्‍लांट की कॉरपोरेट इकाई आरआईएनएल स्‍पेशल स्‍टील का उत्‍पादन करती है, जिसमें विभिन्‍न ग्रेड और आकार के वायर रोड कॉइल्‍स, राउंड और बिलेट्स शामिल हैं।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 10:01
उद्धरण 1 इमारत
सुंदर पिचई के CEO बनते ही Alphabet ने हासिल की उपलब्धि, बनी 1 लाख करोड़ डॉलर मार्केट कैप वाली अमेरिका की चौथी कंपनी******Alphabet becomes 4th US company to hit 1 tn dollar markसुंदर पिचई के नेतृत्‍व वाली गूगल की पैरेंट कंपनी अल्‍फाबेट अब 1 लाख करोड़ डॉलर के मार्केट कैप वाली कंपनियों की सूची में शामिल हो गई है। इस सूची में एप्‍पल, माइक्रोसॉफ्ट और अमेजन पहले तीन स्‍थान पर काबिज हैं। अब अल्‍फाबेट ऐसा करने वाली अमेरिका की चौथी कंपनी बन गई है। का शेयर गुरुवार को 1451.70 डॉलर के स्‍तर पर बंद हुआ, जिससे कंपनी का मार्केट कैप 1 लाख करोड़ डॉलर पर पहुंच गया। आईफोन निर्माता एप्‍पल पहली अमेरिकी कंपनी थी जिसने 2018 में एक लाख करोड़ डॉलर का मार्केट कैप हासिल किया था। सीएनबीसी के अनुसार, विश्‍लेषक कंपनी के नवनियुक्‍त सीईओ सुंदर पिचई को लेकर काफी उत्‍साहित हैं। अल्‍फाबेट की संस्‍थापक लैरी पेज और सर्गी ब्र‍िन ने पिछले साल दिसंबर में कंपनी छोड़ने की घोषणा की थी और पिचई को अल्‍फाबेट व गूगल दोनों कंपनियां का सीईओ बनाया था।पेज और ब्रिन दोनों सह-संस्‍थापक, शेयर धारक और अल्‍फाबेट के बोर्ड ऑफ डायरेक्‍टर्स के सदस्‍यों के रूप में कंपनी से जुड़े रहेंगे। पिचई ने 2004 मे गूगल को ज्‍वॉइन किया था। उन्‍होंने गूगल टूलबार और इसके बाद गूगल क्रॉम के विकास में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई। गूगल क्रॉम दुनिया का सबसे लोकप्रिय इंटरनेट ब्राउजर बन चुका है।पिचई के नेतृत्‍व में गूगल ने एआई की नवीनतम तकनीक द्वारा संचालित उत्‍पादों और सेवाओं के विकास पर ध्‍यान केंद्रित किया है। कंपनी ने घोषणा की है कि है कि यदि पिचई अपने प्रदशर्न लक्ष्‍य को हालिस करते हैं तो उन्‍हें तीन सालों में 24 करोड़ डॉलर मूल्‍य के शेयर दिए जाएंगे इसके साथ ही साथ 2020 से उन्‍हें सालाना 20 लाख डॉलर की सैलरी दी जाएगी।
2022-10-01 08:51
उद्धरण 2 इमारत
भारत के 5G लॉन्च करने से पहले इंटरनेशनल मार्केट में Smartphone की घटी मांग, Samsung ने दर्ज की 19 फीसदी गिरावट******Highlightsभारत युग की शुरुआत करने की योजना बना रहा है वहीं दक्षिण पूर्व एशिया में उपकरणों की मांग में कमी देखी जा रही है। भारत जल्द देश में 5G सेवा बहाल कर देगा। भारत के बाजार में की बिक्री भी बढ़ रही है। जब कुछ देश महंगाई के चलते कम मांग का सामना कर रहे हैं।सोमवार को एक नई रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई है। कैनालिस की रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण पूर्व एशियाई बाजारों के विकास में 5जी की तैनाती बहुत ही कम रही है, जिससे 5जी के लिए प्रचार कम हो गया है और मांग स्मार्टफोन के अधिक व्यावहारिक पहलुओं जैसे बैटरी लाइफ, स्टोरेज, प्रोसेसर स्पीड और कैमरा गुणवत्ता में स्थानांतरित हो गई है।शोध विश्लेषक चीव ले जुआन ने कहा, "5जी उपकरणों की मांग ठप हो गई है। 5जी उपकरणों ने दूसरी तिमाही में स्मार्टफोन की कुल शिपमेंट में 18 प्रतिशत की गिरावट दर्ज किया गया है।" बढ़ती महंगाई के परिणामस्वरूप उपभोक्ताओं को 5जी जैसे कम व्यावहारिक गुणों पर लंबे समय तक चलने वाले उपकरणों की तलाश है।5जी का व्यावहारिक उपयोग अभी तक देखा जाना बाकी है और कम-मध्य उपकरणों के लिए विशेष रूप से अनावश्यक है, जब दिन-प्रतिदिन के उपयोग में 4जी की स्पीड पर्याप्त होती है। जुआन ने कहा, "लाभप्रदता को बढ़ाते हुए डिवाइस की सामर्थ्य बनाए रखना विक्रेताओं के लिए सबसे बड़ी चुनौती है।"दूसरी तिमाही में, दक्षिण पूर्व एशियाई स्मार्टफोन शिपमेंट 2.45 करोड़ यूनिट तक पहुंच गया, जो पिछली तिमाही से 7 प्रतिशत कम है। सैमसंग ने अपनी ए सीरीज की अनुमानित मांग से कम होने के कारण पहली तिमाही से 19 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की है। हालांकि वो अब भी सबसे ज्यादा मांग वाले स्मार्टफोन कंपनी की लिस्ट में शामिल है।37 प्रतिशत हिस्सेदारी और 91 लाख शिपमेंट के साथ इंडोनेशिया सबसे बड़ा बाजार बना रहा, इसके बाद 4.4 करोड़ शिपमेंट के साथ फिलीपींस का स्थान रहा। थाईलैंड का स्मार्टफोन बाजार क्रमिक रूप से 14 प्रतिशत घटकर 40 लाख यूनिट रह गया और वियतनाम स्मार्टफोन बाजार तिमाही-दर-तिमाही 32 प्रतिशत घटकर 31 लाख शिपमेंट हो गया, जो वैश्विक अनिश्चितताओं और बढ़ती कमोडिटी की कीमतों से कमजोर उपभोक्ता मांग के परिणामस्वरूप हुआ। मलेशिया का स्मार्टफोन बाजार 6 फीसदी बढ़कर 24 लाख शिपमेंट हो गया है।
2022-10-01 07:51
उद्धरण 3 इमारत
सोमवार से कुछ खास कारोबारी गतिविधियों में मिलेगी छूट, जानिए कहां मिलेगी राहत******lockdownनई दिल्ली।20 अप्रैल से सरकार कुछ खास शर्तों के साथ कारोबारी गतिविधियों में छूट देने जा रही है। कारोबारियों और दैनिक मजदूरों को राहत के लिए ये कदम उठाया जा रहा है। हालांकि सरकार कोरोना की गंभीरता को देखते हुए कड़ी शर्तों के साथ ये छूट दे रही है। सोमवार से जारी छूट पहले से दी जारी छूट के अतिरिक्त होंगी। पीडीएस, सब्जी, फल, दूध डेयरी प्रोडक्ट, दवाओं की दुकानों, बैंकिंग सेवा, एटीएम औऱ आवश्यक सामान की बिक्री और आपूर्ति पर पहले से ही छूट है।पहले जानिए कल से लागू होने वाली नई राहत के लिए क्या शर्ते रखी गई हैं।कहां मिलेगी छूटकौन सी सेवाएं फिलहाल रहेंगी बंद
वापसी